ये ज़िन्दगी न जाने

ये ज़िन्दगी न जाने कैसे तेरी ज़रूरत बन गयी,
न जाने ये मुहब्बत क्यों तुमसे जुड़ गयी,
अब तो मेरा ही मुझ पर कोई ज़ोर न रहा,
न जाने कैसे तेरी हुकूमत मेरे दिल पर हो गयी!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *