ये कैसा सुरूर है

ये कैसा सुरूर है तेरे इश्क का मेरे मेहरबान,
सँवर कर भी रहते हैं बिखरे बिखरे से हम!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *