कशिश तो बहोत है हमारी मोहब्बत में

कशिश तो बहोत है हमारी मोहब्बत में, लेकिन कोई है पत्थर दिल जो पिघलता नहीं, अगर मिले खुदा तो मांग लूंगा उनको, पर सुना है खुदा मरने से पहले मिलता नहीं!!

Read More

सिर्फ़ नज़दीकियों से मोहब्बत हुआ नहीं करती

सिर्फ़ नज़दीकियों से मोहब्बत हुआ नहीं करती, फ़ासले जो दिलों में हों तो फिर चाहत हुआ नहीं करती, अगर नाराज़ हो खफा हो तो शिकायत करो हमसे, खामोश रहने से दिलों की दूरियाँ मिटा नही करती!!

Read More

पत्थर समझ कर पाँव से ठोकर लगा दी

पत्थर समझ कर पाँव से ठोकर लगा दी, अफसोस तेरी आँखों ने परखा नहीं हमे, क्या क्या उम्मीदें बांध कर आये थे सामने सामने, आपने तो आँख भर के देखा भी नहीं हमे!!

Read More

आपकी यादों के साए बहोत तकलीफ देते हैं

आपकी यादों के साए हमारे दिल के अँधेरे में, बहोत तकलीफ देते हैं हमे जीने नहीं देते, अकेली राह में हमराह कोई मिल तो जाता है, मगर कुछ दर्द हैं जो दिल बहलने नहीं देते!!

Read More