ऐ बेवफा थाम ले मुझको मजबूर हूँ कितना

ऐ बेवफा थाम ले मुझको मजबूर हूँ कितना, मुझको सजा न दे मैं बेकसूर हूँ कितना, तेरी बेवफ़ाई ने कर दिया है मुझे पागल, और लोग कहतें हैं मैं मगरूर हूँ कितना!!

Read More
अपनी इन प्यारी आँखों मैं छुपा लो

अपनी इन प्यारी आँखों मैं छुपा लो

अपनी इन प्यारी आँखों मे छिपा लो हमको, मोहब्बत तुम से हैं चुरा लो हमको, धूप हो या फिर हो सहर तेरा साथ चलेंगे हम, यक़ीन ना हो तो आज़मा लो हमको, तेरे हर दुख को सह लेंगे हंस के हम, अपने वजूद की चादर बना लो हमको, ये ज़िंदगी भी तेरे नाम कर दी है हमने, बस चंद लम्हे सीने से लगा लो हमको!!

Read More